Breaking News

तुलसी के 10 लाजवाब फायदे।



तुलसी के वृक्ष में सभी देवताओ का वास् होता है इसलिए प्रत्येक हिन्दू गृहणी अपनी दैनिक क्रियाओ के आरम्भ में स्नान आदि से निपटकर इसकी पूजा करती है और अपने परिवार के सुख शांति और समृद्धि के लिए प्रार्थना  करती है। परंतु तुलसी का दूसरा रूप है औषधि के रूप में

www.khabar4you.com

तुलसी को कौन नहीं जानता।सभी लोग इससे भलीभांति परचित है ।किसी भी स्थान में उगने वाली इस वनस्पति का भारतीय धर्म संस्कृति में उच्च और पवित्र स्थान है।अनेक ग्रन्थ कथाओ, और धर्म पुराणों में तुलसी की अनेक गाथाएँ उपलब्ध है। तुलसी के वृक्ष में सभी देवताओ का वास् होता है इसलिए प्रत्येक हिन्दू गृहणी अपनी दैनिक क्रियाओ के आरम्भ में स्नान आदि से निपटकर इसकी पूजा करती है और अपने परिवार के सुख शांति और समृद्धि के लिए प्रार्थना  करती है। परंतु तुलसी का दूसरा रूप है औषधि के रूप में।धन्वन्तरि, सुश्रुत, चरक आदि महान आयुर्वेद शास्त्रों ने एक औषधि के रूप में तुलसी को अत्यंत महत्वपुर्ण स्थान दिया है। आज के पोस्ट में हम तुलसी के 10 ऐसे ही महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक उपायों के विषय में आपको बताने जा रहे है ।

(1) चर्म रोगों में

सभी प्रकार के चर्म रोगों में तुलसी के 20-25 तोला पत्तो को  पानी के साथ पीसकर उसका रस निकाले। अब 500 मिलीलीटर तुलसी के रस में 250 मिलीलीटर तिल का तेल मिलाकर धीमी आग में पकाये और जब पानी पूरी तरह जल जाय और सिर्फ तेल बचे तब इसे ठंडा करके छान ले और शीशी में भरकर रख ले।इस तेल के मालिश से सभी प्रकार के त्वचा संबंधी रोग , खुजली, खुश्की आदि दूर हो जाते है।

(2) सिर दर्द के लिए

तुलसी का प्रयोग सिर दर्द के लिए भी काफी लाभदायक है। इसके लिए तुलसी पत्ती 35 नग, सफ़ेद मिर्च 1 नग और तूतिया10 नग लेकर सबको जल के साथ पीसकर रस निकाले। इस रस को प्रतिदिन लेने से पुराना सिर दर्द ठीक हो जाता है।

(3) खाँसी के लिए

बाजार से खांसी की दवाई लेने से अच्छा है कि आप घर पर ही खांसी के लिए  तुलसी से एक बहुत अच्छी औषधि तैयार कर सकते है। इसके लिए 10 तुलसी के पत्ते और 7 लौंग को एक कप पानी में 10 मिनट तक उबाले और ठंडा करके  पी ले। यह खांसी के लिए एक प्रभावी उपचार है।

(4) बुखार के लिए

तुलसी के पत्तो के रस में बुखार को कम करने का विशेष गुण पाया जाता है। तुलसी की पत्तियो को इलायची पाउडर के साथ उबाल कर काढ़ा तैयार कर ले और इसे दिन में कई बार पिए । शाम तक भुखार उतर जायेगा।

(5) प्रतिरोधक क्षमता

अध्यनों से पता चला है कि तुलसी के अंदर कई प्रकार के रासायनिक तत्व पाये जाते है  जो शरीर में संक्रमण से लड़ने  वाली एन्टीबॉडी के उत्पादन में वृद्धि करते है।  रोज सुबह उठकर तुलसी के 4-5 ताजा पत्ते पानी के साथ निगलने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है

(6) त्वचा के लिए

तुलसी के पत्तो के रस में थाइमोल नामक तत्व पाया जाता है जो त्वचा रोगो के लिए लाभदायक होता है।तुलसी की ताजा पत्तियो का रस निकाले और बराबर मात्रा में निम्बू का रस मिलाये और रात में सोते समय अपने चेहरे पर लगाये और सुबह ठन्डे पानी से धो ले। रोजाना ऐसा प्रयोग करने से कुछ ही दिनों में चेहरे के दाग-धब्बे दूर हो जायेगी और चेहरे की रंगत में निखार आ जाएगी।

(7) ह्रदय रोग में 

ह्रदय रोगों में भी तुलसी का प्रयोग काफी लाभकारी प्रयोग है इसके लिए 4 बादाम की गिरी और 5 काली मिर्च लेकर तुलसी के 10 पत्तो के साथ पीस ले और 2 कप पानी में घोलकर एक चम्मच शहद डालकर प्रतिदिन सुबह पीने से ह्रदय के सभी प्रकार के रोग ठीक हो जाते है।

(8) उच्च रक्तचाप के लिए

जिन लोगो को उच्च रक्तचाप या हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत है उन लोगो को तुलसी की 4-5 पत्ती और नीम की 2 पत्ती और 2 चम्मच पानी को खरल में रगड़कर  पेस्ट बना ले । इस पेस्ट को एक हप्ते तक सुबह खाली पेट सेवन करने से उच्च रक्तचाप ठीक हो जाता है।

(9) अनियमित मासिक धर्म

यदि महिलाओ को मासिक-धर्म 24 दिन से पहले और 32 दिन के बाद आये तो यह अनियमित मासिक धर्म कहलाता है। इसके लिए तुलसी के बीज, पीपल,असगंध, नागकेशर, नीम की सुखी पत्ती को बराबर मात्रा में लेकर बारीक़ पीस कर शीशी में भरकर रखे। इसे प्रतिदिन 1 चम्मच की मात्रा लेकर इसमें थोडा मिश्री मिलाकर सुबह गाय के दूध के साथ मिलाकर पीने से मासिक धर्म नियमित हो जाता है।

(10) यौन रोगों में

3 ग्राम तुलसी के बीज में थोडा मिश्री मिलाकर दोपहर खाना खाने के बाद नियमित सेवन करने  से पुरुषो में यौन कमजोरी दूर हो जाती है।
नोट : यह लेख या जानकारी केवल सामान्य ज्ञान प्रदान करती है अधिक जानकारी के लिए हमेशा एक योग्य विशेषज्ञ या डॉक्टर की परामर्श ले। khabar4you.com  इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है। 
आशा करता हु कि आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी। ऐसे ही उपयोगी जानकारी के लिए हमारे साथ जुड़े रहिये।और अपने सुझाव और सवाल के लिए हमें कमेंट करे और इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे। 

No comments