Breaking News

मोती की खेती। मुनाफा 2 लाख रूपये महीना।

अगर आप कम लागत में ज्यादा मुनाफा कमाना चाहते है तो आपके लिए मोती की खेती सबसे बेहतर ऑप्शन हो सकता है।

मोती की खेती। मुनाफा 2 लाख रूपये महीना।


नमस्ते दोस्तों
khabar4you.com में एक बार से आपका बहुत बहुत स्वागत है। दोस्तों अगर आप कम लागत में ज्यादा मुनाफा कमाना चाहते है तो मोती की खेती आपके लिए सबसे बढ़िया विकल्प हो सकता है। हम सभी जानते है की मोती एक प्राकृतिक रत्न है जो कि सीप से प्राप्त होती है। एक सीप से हमें एक ही मोती प्राप्त होती है। भारत के आलावा दूसरे देशों में भी मोतियों की मांग काफी बढ़ती जा रही है जिसकी वजह से मार्केट में मोतियों के अच्छे दाम मिल जाते है। बाजार में एक मोती की कीमत 300 से 1500 रूपये तक होती है। अगर मोती की क्वालिटी अच्छी और डिज़ाइनर है तो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इसकी कीमत 2000 से 10000 रूपये तक होती है। मोती की खेती करने के लिए आपको ट्रेनिंग लेने की जरुरत पड़ती है और सिर्फ कुछ दिनों की ट्रेनिंग के बाद कोई भी मोती की खेती कर सकता है। तो आइये दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपको बताते है कि मोती की खेती कैसे की जाती है ,इसके लिए कितना इन्वेस्टमेंट कर सकते है , इसकी खेती के लिए प्रशिक्षण कहाँ से ली जाती है और मोती तैयार होने के बाद इसे कैसे और कहाँ बेंचा जाता है।


मोती की खेती। मुनाफा 2 लाख रूपये महीना।

मोती की खेती कैसे करे

मोती की खेती के लिए सबसे अनुकुल मौषम शरद ऋतु यानि अक्टूबर से दिसंबर तक का समय माना जाता है। इसकी खेती करने के लिए पहले आप इसे छोटे स्तर पर शुरू कर सकते है। इसके लिए किसी खाली जगह या कोई खेत जहां पानी एकत्रित रह सके वहां पर आपको 500 वर्गफीट का एक छोटा तालाब बनाना होगा।तालाब बन जाने पर आप पहले 100 सीप पालकर मोती की खेती शुरू कर सकते है। 100 सीप की उत्पादन शुरू करने के लिए आपको लगभग 20000 रूपये इन्वेस्टमेंट करने होंगे जिसमे इसके लिए पूरा स्ट्रक्चर सेटअप तैयार करने से लेकर वाटर ट्रीटमेंट और कुछ इंस्ट्रयूमेन्ट खरीदना आदि शामिल है
मोती की खेती करने के लिए सीपों की सर्जरी करनी पड़ती है जिसके लिए आपको प्रशिक्षण लेना पड़ता है। प्रशिक्षण लेने के बाद आपको किसी भी सरकारी संस्थानों या मछुवारों से सीप खरीदना पड़ता है। बाजार में प्रत्येक सीप की कीमत 10 से 15 रूपये तक हो सकती है। सर्जरी करने से पहले सीपो को पानी में दो दिनों के लिए छोड़ा जाता है जिससे उसके ऊपर का कवच और मांसपेशियां ढीली पड़ जाय और सर्जरी करने में आसानी हो। सीपो की सर्जरी कर उसकी सतह में 2 mm छेद करके रेत का एक छोटा सा कण डाल दिया जाता है और जब यह कण सीप को चुभता है तो वह एक प्रकार का पदार्थ छोड़ता है और यही पदार्थ बाद में मोती बन जाता है। सर्जरी हो जाने के बाद सीपो को नॉयलोन की बैग में रखकर तालाब में बांस या पीवीसी पाइप के सहारे छोड़ दिया जाता है। 15 से 20 महीनो बाद सीप में मोती तैयार हो जाता है जिसे आप उसका कवच तोड़कर सीप में से मोती निकाल सकते है।

मोती की खेती के लिए प्रशिक्षण कहां से ले

दुनिया भर में मोतियों का कारोबार लगभग 20 हजार करोड़ का है। सबसे ज्यादा मोतियों का उत्पादन भारत में किया जाता है फिर भी विदेशों से मोती इम्पोर्ट किया जाता है। मोती की खेती करने के लिए भारत में कई जगह प्रशिक्षण दिया जाता है परन्तु अगर आपको निःशुल्क प्रशिक्षण प्राप्त करना है तो भारत भर में केवल एक ही जगह है जो कि सेन्ट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ़ फ्रेश वाटर एक्वाकल्चर भुवनेश्वर ( उड़ीसा ) में है जहां ताजे पानी से मोती बनाने की तकनीक का 15 दिनों के लिए निःशुल्क प्रशिक्षण दिया जाता है जिसमे सर्जरी सहित उसकी देखभाल एवं रखरखाव संबंधी जानकारी सबकुछ सिखाया जाता है। यह इंस्टीट्यूट भारत सरकार द्वारा निःशुल्क प्रशिक्षण केंद्र चलाया जा रहा है जो इंडियर काउंसिल फॉर एग्रीकल्चर रिसर्च के तहत स्थापित है।
                 पता –  ICAR- Central Institute Of Freshwater Aquaculture
                  Kaushalyaganga , Bhubaneshwar , 751002, Odisa , India
                                     Phone- 91-674-2465421-2465446
प्रशिक्षण पूरी होने के बाद आप चाहे तो मोती की खेती बड़े स्तर पर शुरू करने के लिए लोन भी ले सकते है इसके लिए नाबार्ड और अन्य कॉमर्शियल बैंको से 15 सालो के लिए साधारण ब्याज पर लोन भी ले सकते है।

डिज़ाईनर मोती की मार्केट में बड़ी मांग

आमतौर पर मोती का आकार गोल ही होता है लेकिन आप चाहे तो मोती की खेती के दौरान आप अपने मनपसंद आकार या इसे डिज़ाईनर भी बना सकते है जिसकी मार्केट में मांग और कीमत दोनों ज्यादा होती है। देश विदेश में डिज़ाईनर मोती की कीमत 2000 से 10000 रूपये तक होती है। डिजाईनर मोती के लिए सर्जरी के दौरान सीप के अंदर किसी भी आकृति जैसे गणेश ,ईसा ,क्रॉस ,फ्लावर आदि का फ्रेम डाल देते है जिसके बाद मोती यही रूप ले लेती है।

मोतियों को कहां बेंचे

मोतियों की कीमत उसकी क्वालिटी और डिजाईन पर निर्भर करता है। भारत देश में इसकी मार्केट सूरत , दिल्ली , मुंबई , हैदराबाद , और कोलकाता जैसे शहरो में है जहां इसकी मांग ज्यादा है। यहां हजारो व्यापारी मोतियों का कारोबार करते है। मोतियों का कारोबार करने वाले बड़ी कंपनियों के एजेंट भी देश विदेशो में फैले हुए है जिनसे आप आसानी से संपर्क कर सकते है। इसके अलावा आप अपने मोतियों को इंटरनेट पर ऑनलाइन भी बेच सकते है।
दोस्तों आशा करता हूँ कि आपको यह पोस्ट जरूर पसंद आई होगी । ऐसे ही और भी नई नई जानकारी के लिए हमारे साथ जुड़े रहिये । इस पोस्ट को लाइक करे और अपने दोस्तों को शेयर करे और साथ ही हमें कमेंट करके जरूर बताये कि आप किस बिजनेस के बारे में जानना चाहते है।

No comments